Header Ads

Header ADS

Tanhai Shayari, Shahar Ki Tanhai


Kitni Ajeeb Hai Iss Shahar Ki Tanhai Bhi,
Hajaro Log Hain Magar Koi Uss Jaisa Nahi Hai.
कितनी अजीब है इस शहर की तन्हाई भी,
हजारों लोग हैं मगर कोई उस जैसा नहीं है।

Ek Tere Na Hone Se Badal Jata Hai Sab Kuchh,
Kal Dhoop bhi Deewar Par Poori Nahi Utri.
एक तेरे ना होने से बदल जाता है सब कुछ
कल धूप भी दीवार पे पूरी नहीं उतरी।

Dil Gaya Toh Koi Aankhein Bhi Le Jaata,
Faqat Ek Hi Tasvir Kahan Tak Dekhun.
दिल गया तो कोई आँखें भी ले जाता,
फ़क़त एक ही तस्वीर कहाँ तक देखूँ।

Kabhi Jab Gaur Se Dekhoge Toh Itna Jaan Jaoge,
Ke Tumhare Bin Har Lamha Humari Jaan Leta Hai.
कभी जब गौर से देखोगे तो इतना जान जाओगे,
कि तुम्हारे बिन हर लम्हा हमारी जान लेता है।

Koi Rafeeq, Na Rahbar, Na Koi RahGujar,
Udaa Ke Layi Hai Kis Shahar Mein Hawa Mujhko.
कोई रफ़ीक़ न रहबर न कोई रहगुज़र,
उड़ा के लाई है किस शहर में हवा मुझको।

JagMagaate Shahar Ki Ranaaiyon Mein Kya Na Tha,
Dhoondne Nikla Tha Jisko Bas Wohi Chehra Na Tha,
Hum Wahi, Tum Bhi Wahi, Mausam Wahi, Manzar Wahi,
Faasle Barh Jaayenge Itne Maine Kabhi Socha Na Tha.
जगमगाते शहर की रानाइयों में क्या न था,
ढूँढ़ने निकला था जिसको बस वही चेहरा न था,
हम वही, तुम भी वही, मौसम वही, मंज़र वही,
फ़ासले बढ़ जायेंगे इतने मैंने कभी सोचा न था।

Tum Jab Aaoge Toh Khoya Hua Paoge Mujhe,
Meri Tanhai Mein Khawbon Ke Siwa Kuchh Bhi Nahin,
Mere Kamre Ko Sajaane Ki Tamanna Hai Tumhein,
Mere Kamre Mein Kitaabon Ke Siwa Kuchh Bhi Nahin.
तुम जब आओगे तो खोया हुआ पाओगे मुझे,
मेरी तन्हाई में ख़्वाबों के सिवा कुछ भी नहीं,
मेरे कमरे को सजाने कि तमन्ना है तुम्हें,
मेरे कमरे में किताबों के सिवा कुछ भी नहीं।
Powered by Blogger.