Header Ads

Header ADS

Loneliness Shayari, Dekha Chaand Ko Tanha


Jab Se Dekha Hai Chand Ko Tanha,
Tum Se Bhi Koi Shikayat Na Rahi.
जब से देखा है चाँद को तन्हा,
तुम से भी कोई शिकायत ना रही।

Main Hoon Dil Hai Tanhai Hai,
Tum Bhi Jo Hote Toh Achcha Hota.
मैं हूँ दिल है तन्हाई है,
तुम भी जो होते तो अच्छा होता।

Chand Raaton Ke Mahekte Khwaab,
Zindagi Bhar Ki Neendein Le Gaye.
चन्द रातों के महकते ख़्वाब,
ज़िन्दगी भर की नींद ले गए।

Aankhein Footein Jo Jhapakti Bhi Hon,
Shab-e-Tanhai Mein Kaisa Sona.
आँखें फूटें जो झपकती भी हों,
शब-ए-तन्हाई में कैसा सोना।

Shaam Khali Hai Jaam Khali Hai,
Zindagi Yoon Hi Gujarne Wali Hai.
शाम खाली है जाम खाली है,
ज़िन्दगी यूँ गुज़रने वाली है।

Main Bhi Tanha Hoon Aur Tum Bhi Tanha,
Waqt Kuchh Saath Gujara Jaye.
मैं भी तनहा हूँ और तुम भी तन्हा,
वक़्त कुछ साथ गुजारा जाए।

Bahut Socha Bahut Samjha
Bahut Hi Der Tak Parkha,
Ki Tanha Ho Ke Jee Lena
Mohabbat Se To Behtar Hai.
बहुत सोचा बहुत समझा
बहुत ही देर तक परखा,
कि तन्हा हो के जी लेना
मोहब्बत से तो बेहतर है।

Abhi Zinda Hun Lekin
Sochta Rehta Hoon Akele Mein,
Ke Ab Tak Kis Tamanna Ke
Sahare Ji Liya Maine.
अभी ज़िंदा हूँ, लेकिन
सोचता रहता हूँ अकेले में,
कि अब तक किस तमन्ना के
सहारे जी लिया मैंने।

Bichhad Ke Bhi Wo Roj
Milta Hai Mujhe Khwabon Mein.
Agar Ye Neend Na Hoti Toh
Kab Ke Mar Gaye Hote.
बिछड़ के भी वो रोज
मिलता है मुझे ख्वाबों में,
अगर ये नींद न होती तो
कब के मर गए होते।

Kaise Gujarti Hai Meri
Har Ek Shaam Tumhare Bagair,
Agar Tum Dekh Lete Toh
Kabhi Tanha Na Chhodte Mujhe.
कैसे गुजरती है मेरी
हर एक शाम तुम्हारे बगैर,
अगर तुम देख लेते तो
कभी तन्हा न छोड़ते मुझे।
Powered by Blogger.