Header Ads

Header ADS

Attitude Shayari, Logon Ko Jalaya Jaye


Chalo Aaj Phir Thoda Muskuraya Jaye,
Bina Maachis Ke Logon Ko Jalaya Jaye.
चलो आज फिर थोडा मुस्कुराया जाये,
बिना माचिस के कुछ लोगो को जलाया जाये।

Jise Nibha Na Sakun Aisa Vaada Nahi Karta,
Daava Koi Aukaat Se Jyada Nahin Karta.
जिसे निभा न सकूँ ऐसा वादा नहीं करता,
दावा कोई औकात से ज्यादा नहीं करता।

Sambhal Kar Kiya Karo Logo Se Buraai Meri,
Tumhare Tamaam Apne Mere Hi Mureed Hain.
संभल कर किया करो लोगो से बुराई मेरी,
तुम्हारे तमाम अपने मेरे ही मुरीद हैं।

Aisa Nahi Ke Kad Apne Ghat Gaye,
Chadar Ko Apni Dekh Kar Hum Khud Simat Gaye.
ऐसा नहीं कि कद अपने घट गए,
चादर को अपनी देख कर हम खुद सिमट गए।

Aksar Wohi Log Uthhate Hain Hum Par Ungliyan,
Jinki Humein Chhune Ki Aukaat Nahi Hoti.
अक्सर वही लोग उठाते हैं हम पर उँगलियाँ,
जिनकी हमें छूने की औकात नहीं होती।

Log Agar Yun Hi Kamiyan Nikalte Rahe Toh,
Ek Din Sirf Khubiyan Hi Reh Jayengi Mujh Mein.
अगर लोग यूँ ही कमियां निकालते रहे तो,
एक दिन सिर्फ खूबियाँ ही रह जायेगी मुझमें।

Ruthha Hua Hai Mujhse Iss Baat Par Zamana,
Shamil Nahin Hai Meri Fitrat Mein Sar Jhukana.
रूठा हुआ है मुझसे इस बात पर ज़माना,
शामिल नहीं है मेरी फ़ितरत में सर झुकाना।

Zamin Par Rah Kar Aasmaan
Chhune Ki Fitrat Hai Meri,
Par Gira Kar Kisi Ko
Upar Uthane Ka Shauk Nahi Mujhe.
ज़मीं पर रह कर आसमां
छूने की फितरत है मेरी,
पर गिरा कर किसी को,
ऊपर उठने का शौक़ नहीं मुझे।

Humari Haisiyat Ka Andaza,
Tum Yeh Jaan Ke Laga Lo,
Hum Kabhi Unke Nahi Hote,
Jo Har Kisi Ke Ho Gaye.
हमारी हैसियत का अंदाज़ा,
तुम ये जान के लगा लो,
हम कभी उनके नहीं होते,
जो हर किसी के हो गए।

Anjaam Ki Parwaah Hoti Toh,
Hum Mohabbat Karna Chhod Dete,
Mohabbat Mein Toh Zid Hoti Hai,
Aur Zid Ke Bade Pakke Hain Hum.
अंजाम की परवाह होती तो,
हम मोहब्बत करना छोड़ देते,
मोहब्बत में तो जिद्द होती है,
और जिद्द के बड़े पक्के हैं हम।

Hum Woh Hain Jo Aankhon Mein
Jhaank Ke Sach Jaan Lete Hain,
Mohabbat Hai Isliye Tere
Jhoothh Ko Sach Maan Lete Hain.
हम वो हैं जो आँखों में
झाँक के सच जान लेते हैं,
मोहब्बत है इसलिये तेरे
झूठ को सच मान लेते हैं।
Powered by Blogger.