Header Ads

Header ADS

Attitude Shayari, Bandgi Toh Apni Fitrat Hai


Dil Hai Kadmon Pe Kisi Ke Sar Jhuka Ho Ya Na Ho,
Bandgi Toh Apni Fitrat Hai Khuda Ho Ya Na Ho.
दिल है कदमों पे किसी के सर झुका हो या न हो,
बंदगी तो अपनी फ़ितरत है ख़ुदा हो या न हो।

Bas Deewangi Ki Khatir Teri Gali Mein Aate Hain,
Varna Aawargi Ke Liye Toh Saara Shahar Pada Hai.
बस दीवानगी की खातिर तेरी गली मे आते हैं,
वरना आवारगी के लिए तो सारा शहर पड़ा है।

Jara Sa Hat Ke Chalta Hoon Zamane Ki Riwayat Se,
Ke Jinpe Bojh Dala Ho Woh Kandhe Yaad Rakhta Hoon.
जरा सा हट के चलता हूँ ज़माने की रिवायत से,
कि जिन पे बोझ डाला हो, वो कंधे याद रखता हूँ।

Farq Bahut Hai Tumhari Aur Humari Taleem Mein.
Tumne Ustaadon Se Seekha Hai Aur Humne Halaton Se.
फर्क बहुत है तुम्हारी और हमारी तालीम में,
तुमने उस्तादों से सीखा है और हमने हालातों से।

HaraKar Koi Jaan Bhi Le Le Toh Manzoor Hai Mujhko,
Dhokha Dene Walon Ko Main Fir Mauka Nahi Deta.
हराकर कोई जान भी ले ले तो मंज़ूर है मुझको,
धोखा देने वालों को मैं फिर मौका नहीं देता।

Humein Shayar Samajh Ke Yoon Najar Andaz Mat Kariye,
Najar Hum Fer Le Toh Husn Ka Bazar Gir Jayega.
हमें शायर समझ के यूँ नजर अंदाज मत करिये,
नजर हम फेर ले तो हुस्न का बाजार गिर जायेगा।

Main Logon Se Mulakato Ke Lamhe Yaad Rakhta Hoon,
Baatein Bhool Bhi Jaaun Par Lahje Yaad Rakhta Hoon.
मैं लोगों से मुलाकातों के लम्हें याद रखता हूँ,
बातें भूल भी जाऊं पर लहजे याद रखता हूँ।

Na Main Gira Na Meri Umeedon Ke Meenar Gire,
Par Kuchh Log Mujhe Giraane Mein Kayi Baar Gire.
न मैं गिरा और न मेरी उम्मीदों के मीनार गिरे,
पर कुछ लोग मुझे गिराने में कई बार गिरे।

Zamin Par Aao Phir Dekho Humari Ahmiyat Kya Hai,
Bulandi Se Kabhi Zarron Ka Andaza Nahi Hota.
ज़मीं पर आओ फिर देखो हमारी अहमियत क्या है,
बुलंदी से कभी ज़र्रों का अंदाज़ा नहीं होता।

Kaafile Mein Peechhe Hoon Kuchh Baat Hai Varna,
Meri Khaak Bhi Na Paate Mere Saath Chalne Wale.
क़ाफ़िले में पीछे हूँ कुछ बात है वरना,
मेरी ख़ाक भी ना पाते मेरे साथ चलने वाले।

Sahi Waqt Par Karwa Denge Hadon Ka Ahsaas,
Kuchh Talaab Khud Ko Samandar Samajh Baithhe Hain.
सही वक्त पर करवा देंगे हदों का एहसास,
कुछ तालाब खुद को समंदर समझ बैठे हैं।
Powered by Blogger.