Header Ads

Header ADS

Attitude Shayari, Aadat Nahi Humari


Sahaare Dhhoondhne Ki Aadat Nahi Humari,
Hum Akele Poori Mehfil Ke Barabar Hain.
सहारे ढूढ़ने की आदत नहीं हमारी,
हम अकेले पूरी महफ़िल के बराबर हैं।

Thodi Khuddari Bhi Lajimi Thi Dosto,
Usne Haath Chhudaya Toh Humne Chhod Diya.
थोड़ी खुद्दारी भी लाजिमी थी दोस्तो,
उसने हाथ छुड़ाया तो हमने छोड़ दिया।

Tu Waqif Nahi Meri Deewangi Se,
Zidd Pe Aaoon Toh Khuda Bhi Dhhood Lu.
तू वाकिफ़ नहीं मेरी दीवानगी से,
ज़िद पर आऊँ तो ख़ुदा भी ढूंढ़ लूँ।

Shaam Ka Sooraj Hoon Puchhta Koi Nahi,
Jab Subah Hogi Main Hi Khuda Ho Jaunga.
शाम का सूरज हूँ पूछता कोई नहीं,
जब सुबह होगी मैं ही खुदा हो जाउंगा।

Sudhar Gaya Main Toh Fir Pachhtaoge,
Ye Mera Junoon Hi Toh Meri Pehchan Hai.
सुधर गया मैं तो फिर पछताओगे,
ये मेरा जूनून ही तो मेरी पहचान है।

Ishq Ki Holi Khelni Chhod Di Hai Humne,
Varna Har Chehre Par Rang Humara Hota.
इश्क़ की होली खेलनी छोड़ दी है हमने,
वरना हर चेहरे पे रंग हमारा ही होता।

Ajeeb Si Aadat Aur Ghazab Ki Fitrat Hai Meri,
Mohabbat Ho Ke Nafrat Ho Bahut Shiddat Se Karta Hoon.
अजीब सी आदत और गज़ब की फितरत है मेरी,
मोहब्बत हो कि नफरत हो बहुत शिद्दत से करता हूँ।

Tum Bahete Paani Se Ho Har Shakl Mein Dhal Jaate Ho,
Main Ret Sa Hoon Mujhse Kachche Ghar Bhi Nahi Bante.
तुम बहते पानी से हो हर शक्ल में ढल जाते हो,
मैं रेत सा हूँ मुझसे कच्चे घर भी नहीं बनते।

Main Na Andar Se Samandar Hoon Na Baahar Se Aasmaan,
Bas Mujhe Utna Samajh Jitna Najar Aata Hoon Main.
मैं न अन्दर से समंदर हूँ न बाहर आसमान,
बस मुझे उतना समझ जितना नजर आता हूँ मैं।

Dikhawe Ki Mohabbat Toh Zamane Ko Hai Humse,
Yeh Dil Toh Wahan Bikega Jahan Jazbaton Ki Kadar Hogi.
दिखावे की मोहब्बत तो जमाने को है हमसे पर,
ये दिल तो वहाँ बिकेगा जहाँ ज़ज्बातो की कदर होगी।

Haath Mein Khanzar Hi Nahi Aankho Mein Paani Bhi Chahiye.
Humein Dushman Bhi Thoda Khandaani Chahiye.
हाथ में खंजर ही नहीं आँखों में पानी भी चाहिए,
हमें दुश्मन भी थोड़ा खानदानी चाहिए।
Powered by Blogger.