Header Ads

Header ADS

Alone Shayari, Woh Josh-e-Tanhai


Woh Josh-e-Tanhai Shab-e-Gham,
Woh Har Taraf Bekasi Ka Aalam,
Kati Hai Aankhon Mein Raat Saari
Tadap Tadap Kar Sahar Huyi Hai.
वो जोश-ए-तन्हाई शब-ए-ग़म,
वो हर तरफ बेकसी का आलम,
कटी है आँखों में रात सारी,
तड़प तड़प कर सहर हुयी।

Intezaar Ki Arzoo Ab Kho Gayi Hai,
Khamoshion Ki Aadat Si Ho Gayi Hai,
Na Shiqwa Raha Na Shiqayat Kisi Se,
Bas Ek Mohabbat Hai,
Jo Inn Tanhayion Se Ho Gayi Hai.
इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है,
खामोशियों की आदत सी हो गयी है,
न शिकवा रहा न शिकायत किसी से,
बस एक मोहब्बत है,
जो इन तन्हाइयों से हो गई है।

Chhod Do Tanhai Mein Mujhko Yaaro,
Saath Mere Rahkar Kya Paaoge,
Agar Ho Gayi Aapko Bhi Mohabbat Kabhi,
Meri Tarah Tum Bhi Pachhtaoge.
छोड दो तन्हाई में मुझको यारो,
साथ मेरे रहकर क्या पाओगे,
अगर हो गई आपको भी मोहब्बत कभी,
मेरी तरह तुम भी पछताओगे।

Mera Aur Uss Chaand Ka Muqaddar Ek Jaisa Hai,
Woh Taaron Mein Tanha Main Hajaaron Mein Tanha.
मेरा और उस चाँद का मुकद्दर एक जैसा है,
वो तारों में तन्हा है और मैं हजारों में तन्हा।

Ek Purana Mausam Lauta Yaad Bhari Purwai Bhi,
Aisa Toh Kam Hi Hota Hai Woh Bhi Ho Tanhai Bhi.
एक पुराना मौसम लौटा याद भरी पुरवाई भी,
ऐसा तो कम ही होता है वो भी हो तन्हाई भी।

Kuchh Log Zamane Mein Aise Bhi Hote Hain,
Mehfil Mein Toh Hanste Hain Tanhai Mein Rote Hain.
कुछ लोग जमाने में ऐसे भी तो होते हैं,
महफिल में तो हंसते हैं तन्हाई में रोते हैं।

Jarurat Jab Bhi Thi Mujh Ko Kisi Ke Saath Ki,
Unhi Makhsoos Lamhon Mein Mujhe Chhoda Hai Apno Ne.
जरुरत जब भी थी मुझको किसी के साथ की,
उन्हीं मखसूस लम्हों में मुझे छोड़ा है अपनों ने।

Ghar Bana Kar Mere Dil Mein Woh Chhod Gaya,
Na Khud Rehta Hai Na Kisi Aur Ko Basne Deta Hai.
घर बना कर मेरे दिल में वो छोड़ गया,
न खुद रहता है न किसी और को बसने देता है।
Powered by Blogger.