Header Ads

Header ADS

Alone Shayari, Woh Aur Tanha Ho Gaya


Ye Bhi Shayad Zindagi Ki Ek Adaa Hai Dosto,
Jisko Koi Mil Gaya Woh Aur Tanha Ho Gaya.
ये भी शायद ज़िंदगी की इक अदा है दोस्तों,
जिसको कोई मिल गया वो और तन्हा हो गया।

Sahara Lena Hi Padta MujhKo Dariya Ka,
Main Ek Katra Hoon Tanha Toh Bah Nahi Sakta.
सहारा लेना ही पड़ता है मुझको दरिया का,
मैं एक कतरा हूँ तनहा तो बह नहीं सकता।

Ek Umr Hai Jo Tere Bagair Gujaarni Hai,
Aur Ek Lamha Bhi Tere Bagair Gujarta Nahi.
एक उम्र है जो तेरे बगैर गुजारनी है,
और एक लम्हा भी तेरे बगैर गुजरता नहीं।

Kamaal Ka Taana Deti Hai Yeh Duniya Mujhe,
Agar Woh Tera Hai Toh Tere Paas Kyon Nahi.
कमाल का ताना देती है ये दुनिया मुझे,
अगर वो तेरा है तो तेरे पास क्यों नहीं।

Tum Kya Gaye Ke Waqt Ka Ehsaas Mar Gaya,
Raaton Ko Jaagte Rahe Aur Din Ko So Gaye.
तुम क्या गए कि वक़्त का अहसास मर गया,
रातों को जागते रहे और दिन को सो गए।

Unse Mulakat Ke SilSile Kya Band Huye,
Muddatein Beeti Hain Aayine Se RuBaRu Huye.
उनसे मुलाक़ात के सिलसिले क्या बन्द हुए,
मुद्दतें बीती हैं आईने से रूबरू हुए।

Tnhayiaan Kuchh Iss Tarah Se Dasne Lagi,
Main Aaj Apne Pairon Ki Aahat Se Darr Gaya.
तन्हाईयाँ कुछ इस तरह से डसने लगी मुझे,
मैं आज अपने पैरों की आहट से डर गया।

Meethhi Si Khushboo Mein Rahte Hain GumSum,
Apne Ehsaas Se Baant Lo Tanhai Meri.
मीठी सी खुशबू में रहते हैं गुमसुम,
अपने अहसास से बाँट लो तन्हाई मेरी।

Woh Har Baar Mujhe Chhod Ke Chale Jate Hain Tanha,
Main Mazboot Bahut Hoon Lekin Patthar Toh Nahi Hoon.
वो हर बार मुझे छोड़ के चले जाते हैं तन्हा,
मैं मज़बूत बहुत हूँ लेकिन कोई पत्थर तो नहीं हूँ।

Kuchh Kar Gujarne Ki Chaah Mein Kahan Kahan Se Gujre,
Akele Hi Najar Aaye Hum Jahan-Jahan Se Gujre.
कुछ कर गुजरने की चाह में कहाँ-कहाँ से गुजरे,
अकेले ही नजर आये हम जहाँ-जहाँ से गुजरे।

Mujhko Meri Tanhai Se Ab Shikayat Nahi Hai,
Main Patthar Hoon Mujhe Khud Se Bhi Shikayat Nahi Hai.
मुझको मेरी तन्हाई से अब शिकायत नहीं है,
मैं पत्थर हूँ मुझे खुद से भी मोहब्बत नहीं है।

Ek Tumhien The Jiske Dum Pe Chalti Thi Saanse Meri,
Laut Aao Ke Zindagi Se Ab Wafa Nibhayi Nahi Jati.
एक तुम्हीं थे जिसके दम पे चलती थी साँसें मेरी,
लौट आओ कि ज़िंदगी से वफ़ा निभाई नहीं जाती।

Yoon Toh Har Rang Ka Mausam Mujhse Waqif Hai Magar,
Raat Ki Tanhai Mujhe Kuchh Alag Hi Janti Hai.
यूँ तो हर रंग का मौसम मुझसे वाकिफ है मगर
रात की तन्हाई मुझे कुछ अलग ही जानती है।
Powered by Blogger.