Header Ads

Header ADS

Alone Shayari, Umr Gujaari Hai Uss Tarah


Aye Shamma Tujhpe Yeh Raat Bhaari Hai Jis Tarah,
Humne Tamaam Umr Gujaari Hai Uss Tarah.
ऐ शम्मा तुझपे ये रात भारी है जिस तरह,
हमने तमाम उम्र गुजारी है उस तरह।

Tumhare Bagair Yeh Waqt Yeh Din Aur Yeh Raat,
Gujar Toh Jaate Hain Magar Gujaare Nahi Jaate.
तुम्हारे बगैर ये वक़्त ये दिन और ये रात,
गुजर तो जाते हैं मगर गुजारे नहीं जाते।

Tere Wajood Ki Khushbo Basi Hai Saanson Mein,
Yeh Aur Baat Hai Najaron Se Dur Rahete Ho.
तेरे वजूद की खुशबु बसी है साँसों में,
ये और बात है नजरों से दूर रहते हो।

Yun Bhi Hua Hai Raat Ko Jab Log So Gaye,
Tanhai Aur Main Teri Baaton Mein Kho Gaye.
यूँ भी हुआ रात को जब लोग सो गए,
तन्हाई और मैं तेरी बातों में खो गए।

Khuda Kare Ke Teri Umr Mein Gine Jayein,
Woh Din Jo Humne Tere Hijr Mein Gujaare Hain.
खुदा करे के तेरी उम्र में गिने जाये,
वो दिन जो हमने तेरे हिज्र में गुजारे है।

Uske Dil Me Thodi Si Jagah Maagi Thi
Musafiron Ki Tarah,
Usne Tanhayion Ka Ek Shahar
Mere Naam Kar Diya.
उसके दिल में थोड़ी सी जगह माँगी थी
मुसाफिरों की तरह,
उसने तन्हाईयों का एक शहर
मेरे नाम कर दिया।

Kaanto Si Chubhti Hai Tanhai,
Angaron Si Sulagti Hai Tanhai,
Koi Aakar Humein Hansaa De Jara,
Main Rota Hun Toh Rone Lagti Hai Tanhai.
कांटो सी चुभती है तन्हाई,
अंगारों सी सुलगती है तन्हाई,
कोई आ कर हमें ज़रा हँसा दे,
मैं रोता हूँ तो रोने लगती है तन्हाई।

Beete Huye Kuchh Din Aise Hain,
Tanhai Jinhein Dohrati Hai,
Ro-Ro Ke Gujarti Hain Raatein,
Aankhon Mein Sahar Ho Jati Hai.
बीते हुए कुछ दिन ऐसे हैं
तन्हाई जिन्हें दोहराती है,
रो-रो के गुजरती हैं रातें
आंखों में सहर हो जाती है।

Tanhayi Ki Raat Kat Hi Jayegi
Itne Bhi Hum Majboor Nahi,
Dohra Kar Teri Baaton Ko
Kabhi Hans Lenge Kabhi Ro Lenge.
तन्हाई कि रात कट ही जाएगी
इतने भी हम मजबूर नहीं,
दोहरा कर तेरी बातों को
कभी हँस लेंगे कभी रो लेंगे।
Powered by Blogger.