Header Ads

Header ADS

Alone Shayari, Tanhai Ka Dard


Kabhi Socha Na Tha Tanhayion Ka Dard Yun Hoga,
Mere Dushaman Hi Mera Haal Mujhse Puchhte Hain.
कभी सोचा न था तन्हाइयों का दर्द यूँ होगा,
मेरे दुश्मन ही मेरा हाल मुझसे पूछते हैं।

Dekh Kar Chehra Palat Dete Hain Ab Woh Aayina,
Mausam-e-Furqat Unhein Soorat Koi Bhaati Nahi.
देख कर चेहरा पलट देते हैं अब वो आइना,
मौसम-ए-फुरकत उन्हें सूरत कोई भाती नहीं।

Chand Lamhon Ke Liye Ek Mulakaat Rahi,
Phir Na Woh Tu, Na Woh Main, Na Woh Raat Rahi.
चंद लम्हों के लिए एक मुलाक़ात रही,
फिर ना वो तू, ना वो मैं, ना वो रात रही।

Raasta Mujhko Dikhaya Aur Ojhal Ho Gaye,
Aap Ke Rahmo-Karam Ka Shukriya Kaise Karun.
रास्ता मुझको दिखाया और ओझल हो गए,
आप के रहमो-करम का शुक्रिया कैसे करूँ।

Tere Sahaare Maut Se Ladta Raha Ta-Zindgi,
Kya Karun Iss Zindagi Ka Main Bata Tere Bina.
तेरे सहारे मौत से लड़ता रहा ता-ज़िंदगी,
क्या करूँ इस ज़िंदगी का मैं बता तेरे बिना।

Kya Karenge Mehfilon Mein Hum Bata,
Mera Dil Rehta Hai Kafilon Mein Akela.
क्या करेंगे महफिलों में हम बता,
मेरा दिल रहता है काफिलों में अकेला।

Tanhai Rahi Saath Ta-Zindagi Mere,
Shikwa Nahi Ke Koi Saath Na Raha.
तन्हाई रही साथ ता-जिंदगी मेरे,
शिकवा नहीं कि कोई साथ न रहा।

Dil Ko Aata Hai Jab Bhi Khayal Unka,
Tasvir Se Puchhte Hain Fir Haal Unka.
दिल को आता है जब भी ख्याल उनका,
तस्वीर से पूछते हैं फिर हाल उनका।

Shaam Se Aankh Mein Nami Si Hai,
Aaj Phir Aap Ki Kami Si Hai.
शाम से आँख में नमी सी है,
आज फिर आप की कमी सी है।

Ek Lehja Nahi Karaar Jee Ko,
Maut Aaye Bas Aisi Zindgi Ko.
एक लहजा नहीं करार जी को,
मौत आये बस ऐसी जिंदगी को।

Qaid Mein Itna Zamana Ho Gaya,
Ab Qafas Bhi Aashiyana Ho Gaya.
कैद में इतना ज़माना हो गया,
अब कफस भी आशियाना हो गया।
Powered by Blogger.