Header Ads

Header ADS

Alone Shayari, Khud Ko Akela Paya Hai


Na Jane Kyun Khud Ko Akela Sa Paya Hai,
Har Ek Rishte Me Khud Ko Ganwaya Hai,
Shayad Koyi Toh Kami Hai Mere Wajood Mein,
Tabhi Har Kisi Ne Humein Yun Hi Thukraya Hai.
ना जाने क्यूँ खुद को अकेला सा पाया है,
हर एक रिश्ते में खुद को गँवाया है।
शायद कोई तो कमी है मेरे वजूद में,
तभी हर किसी ने हमें यूँ ही ठुकराया है।

Umeed Toh Manzil Pe Pahunchne Ki Badi Thi,
Takdeer Magar Na Jane Kahan Soyi Padi Thi,
Khush The Ke Gujarenge Rafakat Mein Safar,
Tanhayi Magar Baahon Ko Failaye Khadi Thi.
उम्मीद तो मंज़िल पे पहुँचने की बड़ी थी,
तक़दीर मगर न जाने कहाँ सोयी पड़ी थी,
खुश थे कि गुजारेंगे रफाकत में सफ़र,
तन्हाई मगर बाहों को फैलाये खड़ी थी।

Aghosh Mein Lelo Mujhe Akela Hoon Main,
Basaa Lo Dil Ki Dhadkan Mein Akela Hun Main,
Jo Tum Nahi Zindagi Mein Toh Fir Kuchh Nahi,
Samaa Jaao Mujh Mein... Ke Akela Hoon Main.
आगोश में ले लो मुझे बहुत अकेला हूँ मैं,
बसा लो दिल की धड़कन में अकेला हूँ मैं,
जो तुम नहीं जिंदगी में तो फिर कुछ नहीं,
समा जाओ मुझमें... कि अकेला हूँ मैं।

Kabhi Pahlu Mein Aao Toh Batayenge Tumhein,
Haal-E-Dil Apna Tamaam Sunayenge Tumhein,
Kaati Hain Akele Kaise Humne Tanhayi Ki Raatein,
Har Uss Raat Ki Tadap Dikhayenge Tumhein
कभी पहलू में आओ तो बताएँगे तुम्हें,
हाल-ए-दिल अपना तमाम सुनाएँगे तुम्हें,
काटी हैं अकेले कैसे हमने तन्हाई की रातें,
हर उस रात की तड़प दिखाएँगे तुम्हें।

Kya Main Kahun Aur Kya Samjhte Hain,
Sab Raaz Nahi Hote Bataane Wale,
Kabhi Tanhaiyon Mein Aakar Dekhna,
Kaise Rote Hain Sabko Hansaane Wale.
क्या हूँ मैं और क्या समझते हैं,
सब राज़ नहीं होते बताने वाले,
कभी तन्हाइयों में आकर देखना,
कैसे रोते है सबको हंसाने वाले।

Aaj Kuchh Zindagi Mein Kami Hai Tere Bagair,
Na Rang Hai Na Roshni Hai Tere Bagair,
Waqt Chal Raha Hai Apni Hi Raftar Se,
Bas Tham Gayi Hai Dhadkan Ek Tere Bagair.
आज कुछ ज़िन्दगी में कमी है तेरे बगैर,
ना रंग है ना रौशनी है तेरे बगैर,
वक़्त चल रहा है अपनी ही रफ़्तार से,
बस थम गयी है धड़कन एक तेरे बगैर।
Powered by Blogger.